Temple/Mandir

पशुपतिनाथ मन्दिर ,मन्दसौर

अष्टमुखी पशुपतिनाथ की प्रतिमा का सौंदर्य अपने-आप में अनूठा है। मंदसौर में प्रतिमा अष्टमुखी है। 75 बरस पहले शिवना की कोख से निकली प्रतिमा विश्व प्रसिद्ध है। 19 जून 1940 को शिवना नदी से बाहर आने के बाद 21 साल तक भगवान पशुपतिनाथ की प्रतिमा नदी के तट पर ही रखी रही। प्रतिमा को सबसे …

पशुपतिनाथ मन्दिर ,मन्दसौर Read More »

हर‍िद्वार की गंगा आरती का समय, स्‍थान और बाकी जरूरी जानकारी

हर‍िद्वार में होने वाली गंगा आरती का दृश्‍य अलौक‍िक ही होता है।गंगा आरती एक धार्म‍िक संस्‍कार है जो हर‍िद्वार की हर की पौड़ी पर द‍िन में दो बार होता है। इसमें शामिल होने के लिए पूरा साल श्रद्धालुओं और पर्यटकों की भीड़ रहती है। गंगा आरती की शुरुआत मां गंगा की मूर्ति को पालकी में …

हर‍िद्वार की गंगा आरती का समय, स्‍थान और बाकी जरूरी जानकारी Read More »

श्री रामेश्वर मंदिर , तमिलनाडु

इस मंदिर को लेकर दो तरह की कथाएं प्रचलित हैं। shree rameshwar jyotirling mandir पहली कथा के अनुसार भगवान राम जब माता सीता को छुड़ाने के लिए लंका पर चढ़ाई करने जा रहे थे, तब उन्होंने बालू से शिव बालू की स्थापना की और विजय की कामना के लिए भगवान शिव की आराधना की। तब …

श्री रामेश्वर मंदिर , तमिलनाडु Read More »

श्री नागेश्वर मंदिर , गुजरात

नागेश्वर मंदिर गुजरात के द्वारका के द्वारूकवन में स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना से जुड़ी कथा इस प्रकार है− सुप्रिय नामक एक वैश्य भगवान शिवजी का अनन्य भक्त था। एक बार जब वह नौका पर सवार होकर कहीं जा रहा था तो दारूक नामक राक्षस ने उस पर आक्रमण कर दिया और सुप्रिय तथा …

श्री नागेश्वर मंदिर , गुजरात Read More »

श्री बैद्यनाथ मंदिर ,झारखंड

shree bedynath mandir jharkhand झारखंड के देवधर में स्थित है श्री बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग। कहा जाता है कि एक बार राक्षसों के राजा रावण ने कैलाश पर्वत जाकर भगवान शिवजी की तपस्या की और अपने नौ सिर काट कर बारी−बारी से शिवलिंग पर चढ़ा दिए। जब वह अपना दसवां सिर काटने लगा तो भगवान शिवजी प्रकट …

श्री बैद्यनाथ मंदिर ,झारखंड Read More »

Exit mobile version